मै आशुफ़्ता हूँ आजकल इस ख़याल से

मै आशुफ़्ता हूँ आजकल इस ख़याल से
असल के चक्कर में क्या पाला पड़ा जाल से ।

तू लाख शरीफ सही ज़माने की नज़र में
होता है शुबा कभी-कभी तेरी चाल ढाल से ।

दावे करता है मुझसे मोहब्बत के बड़े बड़े
क्यों आती है फिर किसी और की खुशबु तेरे रुमाल से।

सबसे कहता फिरता है मै बेकसुर हूँ
फिर क्यों ख़ौफ़ज़दा है मेरे एक सवाल से ।

Leave a Reply