अपनी मर्जी

हद कर दी ताने मारके
अपनी बयां कर करके
दूसरें जैसे भी ठानले
अपनी इरादें पूरी हो जाये
किसीके पास वक्त नहीं है
आगे जो है पकड़ें चलते बनें
छोड़दें जब अपनी काम बनें
दो दिनकि जीवन है ये
जैसा भी करके बस जी ले
खूनका रिश्ता ही क्यों न टूटे
दिलका जुवां ही क्यों न झुठलें
जुवां हो तो सब कुछ है
मरें तो कुछ भी नहीं है
यश करो मस्तीसे जी लो
जो भी देखो अपने नजरें
सब कुछ एसी एक बहाना
सच ठानलो या झुठ्ठ है ये
सब कुछ अपनी अपनी मर्जी |
०३/०२/२०१५

Leave a Reply