राष्ट्र भाषा हिंदी

हम मोती है धागा हिंदी
हम सोना है सुहागा हिंदी
हिंदी जान गण की आशा है
हिंदी भारत की भाषा है

हिंदी ही प्राण हिंदी ही प्रीत
हिंदी के गान हिंदी के गीत
हिंदी जान गण हिंदी तन मन
हिंदी यौवन हिंदी जीवन

हिंदी जन्मभूमि पर जन्मे है
इस भाषा का गौरव रखेंगे
जन गण में इसको फैला कर
खुद को हिंदुस्तानी कह सकेंगे

हम तो हिंदी के पुजारी है
हिंदी ही को अपनाएंगे
हिंदी के सिवा न और किसी को
राष्ट्र भाषा का ताज पहनाएंगे

Leave a Reply