रंग डालें बासन्ती

अबकी ऐसे फाग मनाओ
दीवारों पर रंग लगाओ
रंग भरी भीगी दीवारें
महक उठें सोंधी दीवारें
नरम पड़ी गीले रंगों से
जहाँ-तहाँ टूटें दीवारें ।

दीवारें घर के भीतर की
दीवारें मंदिर-मस्जिद की
दीवारें झोंपड़-महलों की
दीवारें मानस-मानस की
रंग डालें बासंती ।

बरसे अबकी इतना रंग
बह जाएँ गलियारे तंग
दीवारों से राह बने
आने का हो आमंत्रण ।

दीवारें घर को जोड़ें
घर में दीवारें तोड़ें
रंग भरी दीवारों से
अबकी हम भी गले मिलें
दीवारों के गीले रंग
हमको भिगा-भिगा कर के
रंग डालें बासंती ।

Leave a Reply