सपने तोड़ चले

एक रिश्ते ने दिल तोड़ा तो जग को ही तुम छोड़ चले।
बूढ़ी आँखों के सपने क्यों एक पल में तुम तोड़ चले।

हाथों में जो बंधा प्रेम से बस रेशम का धागा समझा।
पहले से ही सोए थे तुम क्यों खुद को जागा समझा।

कायर थे तुम क्यों साहस का झूठा चोला ओढ़ चले।
खुद के लिए ही जिन्दा थे जो अपनों से मुँह मोड़ चले।

क्यों मान गए हारा खुद को,रब ने क्या है नीति लिखी।
जीवन है शतरंज की विशात,किस बाजी पे जीत लिखी।

जो मिला नहीं, न तेरा था फिर करने किससे होड़ चले।
जाना था किस ओर मुसाफिर,किस ओर तुम दौड़ चले।

एक रिश्ते ने दिल तोड़ा तो जग को ही तुम छोड़ चले।
बूढ़ी आँखों के सपने क्यों एक पल में तुम तोड़ चले।
वैभव”विशेष”

One Response

  1. अशोक कुमार गुप्ता 16/03/2015

Leave a Reply