नाक

– नाक

इधर कान है, उधर कान है
खड़ी बीच में रहती नाक
ऊपर आँखें, नीचे मुख है
बीच पड़ी बस रहती नाक

अच्छा सुनना, मीठा कहना
देख समझकर रखना नाक
बुरा सुने जो, बुरा कहे वो
बुरा दिखे तो कटती नाक

आँख, कान, मुख पहरा देते
इनके कारण बचती नाक।

00000

Leave a Reply