इस दुनिया के अलग-अलग चेहरे

यह दुनिया
बिल्कुल नहीं चलती
एक सत्य की छत के नीचे।

यह दुनिया
बिल्कुल नहीं चलती
अहिंसा के रास्तों पर।

यह दुनिया
बिल्कुल नहीं महकती
एक प्रेम की छाँव में।

यह दुनिया
बिल्कुल नहीं रचती
एक जैसी अनेकों रचनाएँ।

इस दुनिया में
अलग-अलग चेहरे होते हैं
आदमियों के।

सबके लिए
एक जैसा सत्य
एक जैसी अहिंसा
एक जैसा प्रेम
और एक जैसी रचना
उनके चेहरे से मेल नहीं खाती।

उनके लिए
दुनिया को चलाना
एक सही दिशा में
जरुरी नहीं होता
जरुरी होता है
अपने लिए जगह बनाना
इस भरी दुनिया में
भले ही पवित्रता के आंच में पका
सत्य, अहिंसा, प्रेम
खंडित होता रहे सदियों तक।

One Response

Leave a Reply