जीवन साथी

मैं जो हूँ दीपक तू मेरी बाती, ऐसा ही होता है जीवन साथी |
बाती बिना नहीं जलता दिया है, गोरी बिना कहीं सूना पिया है |
रोशन तुझसे मेरा समां है, देख तुझे दिल मेरा जवां है |
ऑंखें ये तेरी जैसे बहती धरा, बाहें ये तेरी मेरे दिल का सहारा |
तू जो है चंदा मैं हूँ चकोर, जीवन है मेरा तुझसे इनोर |
कीचड़ में खिलता तू एक कमल है, बातें तुम्हारी जैसे गजल है |
जुल्फें ये तेरी काली घटा है, दिलबर ये दिल मेरा इसपे फ़िदा है |
कहूँ मैं क्या और कुछ तेरे बारे में, गर्दिश है चाँद आज पहली बार इस नज़ारे में |

Leave a Reply