“””हमसफ़र”””

manzil tak doge sath mera jaise koi rah ho.dil ki gahrai me dub jao gar meri chah ho.chhod do hath mera bad me badi mushkil hogi.gar is bedard duniya ki tumhe thodi bhi parwah ho…
मंज़ील तक दोगे साथ मेरा जैसे कोई राह हो॥
दिल की गहराई में डूब जाओ गर मेरी चाह हो॥
छोड़ दो हांथ मेरा बाद में बड़ी मुश्कील होगी॥
अगर इस बेदर्द दूनीयाँ की तुम्हे थोड़ी भी परवाह हो॥
“””””विकास”””””

Leave a Reply