“””वन्दे मातरम्”””

तूही मेरी हसरतो में, तूही दिल का शुकुन हैं
तेरी खुश्बू है सांसो में,तेरे ही रंग रंगा मेरा खून हैं
ऑखे खुले तो तेरा नज़ारा,जूबां पर बस तेरी ही धून हैं
रोम-रोम मे तेरा ही जज़्बा,रग-रग में बस तेरा जूनुन हैं
“”””वन्दे मातरम्,जय हिंद,जयभारत, जय छत्तीसगढ़ माता”””
“””””””विकास””””” 

Leave a Reply