काजू-किशमिश — बाल गीत

काजू-किशमिश

काजू जैसे कान हैं
किशमिश जैसी नाक
अखरोट-सी खोपड़ी
चिलगोजी-सी आँख

खुले ओंठ अँजीर हैं
पिस्ता पिस्ता दाँत
ठुड्डी है बादाम-सी
खजूर रंग के गाल

मिले अगर ये थोबड़ा
मिल बाँट के खायें
बचे खुचे को फेंक के
अपने घर को जायें।

—– भूपेन्द्र कुमार दवे]

00000

Leave a Reply