बाल कविताएँ– पक्षी

बाल कविताएँ– पक्षी
चूँ,चूँ,चूँ—-कौन ? चिड़िया
चिड़िया चूँ,चूँ करती है
सारा दिन फुदकती है
दाना लेकर आती है
बच्चों को खिलाती है ।।
=========================================

काँव, काँव, काँव–कौन ? कौवा
काँव, काँव करता कौवा आया
काला कोट पहन कर आया
रोटी को चोंच में दबाया
दूसरे कौवों को बुलाया ।।
=============================================

गुँटरगूँ, गुटरगूँ,गुटरगूँ–कौन ? कबूतर
कबूतर की आँख छोटी
कबूतर की पूँछ छोटी
गुँटरगूँ, करता रहता है
घोंसला अपना बनाता है
बिल्ली से डरता है
देखकर आँख बन्द कर लेता है ।।
=====================================

टें,टें,टें—कौन ? तोता
तोता पिंजरे में बैठा है
हरी मिर्च खाता है
टें,टें करता रहता है
बेबी को बुलाता है ।।

कूहू, कूहू, कूहू, कूहू—कौन ? मोर
आसमान में बादल छाया
मोर ने नाच नचाया
कूहू, कूहू शोर मचाया
सबके मन को भाया
हरे, नीले पंख फैलाए
सिर की कलगी को घुमाए।।
===============================
क्वैक, क्वैक-,क्वैक—कौन ? बतख
बतख की चोंच पीली, पैर लाल,
पहन कर सफ़ेद शाल
पानी में तैरती, इठलाती
अपने बच्चों को पीछे भगाती,
क्वैक,क्वैक करती रहती
घूम घूम कर शोर मचाती ।।
———————————-

Leave a Reply