दोहे

मन की सुन्दर, सुन्दरता
तन का रूप छलावा l
रंग रूप के, वश में हुए तो
होगा फिर पछतावा ll
रे भैया …………….

अपना-अपना सब कहें
अपना हुआ न कोयl
पाप की दौलत जोड़ के
सुख से रहा ना कोय ll
रे भैया …………….

दोस्त बहुत मिल जायेंगे
साथ कौन चल पायेगा l
दुःख के पलो में जो संग रहे
सच्चा दोस्त कहलायेगा ll
रे भैया …………….

पल दो पल की जिंदगी
साथ कुछ ना जायेगा l
अंहकार की बेड़ी तोड़ दे
जीवन ये तर जायेंगा ll
रे भैया …………….

नारी के है रूप अनेक
हर रूप का अपना वजूद l
जहाँ लक्ष्मी का रूप है वो
वहीं चंडी का भी रूप ll
रे भैया …………….

मै-मै की इस आग में
तप रहा इंसान l
अंत समय में एक ही शब्द
मुँख से निकले राम ll
रे भैया …………….

One Response

  1. Praveen 12/04/2015

Leave a Reply