जटायु मानव से अच्छे?


जटायु मानव से अच्छे थे ! अब तुम्ही विचारो ,
जन्म -जन्म के पुण्य कर्म तूँ मानव निहारो ||
दानव कह कर भी तुम पर सुनलो विकारी |
दुदकार भी करके कोई श्री मुख कूँ विगारी ||
जन्म -जन्म के पुण्य कर्म तूँ मानव निहारो |
जटायु मानव से अच्छे थे ! अब तुम्ही विचारो||

Leave a Reply