दोस्ती का सिलसिला

।।दोस्ती का सिलसिला।। गजल ।।

दोस्त हो तो दोस्तों का काफिला बनाये रखना तुम ।।
बस इसी तरह दोस्ती का सिलसिला बनाये रखना तुम ।।1।।

दर्द तुम्हे भी न हो और अश्क मेरे भी न बहे ।।
रहम कर इतना तो फासला बनाये रखना तुम ।। 2।।

यकीनन कुर्बानियाँ जाया नही जाती यहा पर ।।
पर जिंदगी को अपने मनचला बनाये रखना तुम ।।3।।

इश्क की बारिश में उजड़ जायेगे कितने घर।।
हर वक्त अपने दिल को घोषला बनाये रखना तुम ।।4।।

झूठा ही सही पर कोई तो एतबार करे तुम पर ।।
आंशुओं के बदले दोस्त ! हौसला बनाये रखना तुम ।।5।।

दोस्त हो तो दोस्तों का काफिला बनाये रखना तुम ।।
बस इसी तरह दोस्ती का सिलसिला बनाये रखना तुम ।। ।।
***

Leave a Reply