आशावादी

कोई निराशावादी नहीं होता है
निराशा मे भी इंसान आशावादी होता है
निराशा होती है पल दो पल के लिए
निराशा से ही तो आदमी आशावादी होता है।

जब बंद हो जाएँ रास्ते दुनिया के
तो वक्‍त का इंतजार कर अच्छे वक्‍त के लिए
कुछ भी दुनिया में नामुमकिन नही होता
और हर फल हर काम से मिले ऐसा भी नही होता।
कोई निराशावादी नहीं होता है …………………

निराशा भूचक्का कर देती है आदमी को
आदमी तब बेबस सा होता है
एक बूंद ढूंढना चाहता है आशा की
ओर ना मिलने पर और निराश होता है।
कोई निराशावादी नहीं होता है …………………

इस जीवन से घूटने की आशा
किसी ओर जगह पहुँचने की आशा
दुखों से छुटकारा पाने की आशा
ऐसे तो कोई निराशावादी नही होता।
कोई निराशावादी नहीं होता है …………………

Leave a Reply