भ्रष्टाचार

कण-कण जोङकर यह पहाङ बनाया है।
अकेले नही हो तुम
हमने तुम्हारा साथ निभाया है।
तुम्हें जीतनी होगी अब हर बाजी
चाहे जितनी भी आंधियों का साया है
छोङ न देना सच्चाई कि राह को
हर दिल में तुमसा ही भगवान बसाया है।
कण-कण जोङकर…………….

लूट रहे है जो इस देश को
ढूंढना है तुमने उस हर शख्स को
हर चालबाज के पीछे एक खास बिठाया है।
हमने अपने मन में आने वाला सत्य समाज बसाया है।
कण-कण जोङकर………………..

तोङेंगे-मोङेंगे तुम्हें यहाँ यूँ ही नही छोङेंगे
यहाँ सब तुम्हारा नाता धोखेबाजों से जोङेंगे
कण-कण साफ रख अपना इरादा बताना है
आकाश बन हर गंदे धुएँ को निगल जाना है
कण-कण जोङकर…………………

One Response

  1. चन्द्र भूषण सिंह 19/06/2015

Leave a Reply