YUVA

ऐ जवानों जरा होश कीजे अगर,
लाज जाने न पाये जमीं.भूमि की,
इस जवां देश के वीर आजाद हो,
तेरे चंगुल में है पाक.चीन दोस्तों,
एक झलक तो दिखाओ जरा रोष की,
भाग जायें गद्दारें जनम् भूमि से,
अब तो आवाज दो नौजवां साथियों,
स्वर्ग को नर्क से तुम मिलाअो नहीं,
तेरे मइयत पर फूलेंगे ये बागियां,
हर कली मुस्करायेगी इस डाल की,
मानो कहना मेरा ऐ वतन साथियों,
एक दमन से चमन हो किरन चांद की,
राजेन्द्र प्रसाद

Leave a Reply