बहुमूल्य है ज़िन्दगी के पल

सपने करना है तुझे पुरा,
अतरंग मन को कर धार ।
छोड़ अपने कल के ज़िन्दगी,
तुम्हे जीना है वर्तमान पर।
अपने ज्ञान दीप रोशनी से,
खुद को कर तू प्रकाश ।
बहुमूल्य है ज़िन्दगी के पल,
आज है वो न मिलेगा कल ।
पास सबकुछ,असंभव नहीं,
कठीन जरूर है पथ ।
जोखिम लेना ही होगा,
तभी होगा सपना सच ।
कुछ कर दिखलाने की
क्यों ढूंढ़ते हो अवसर ।
झक मर के आएगी सफलता,
तू लगन से मेहनत कर।
मुसीबत भी घबरा जाएगी,
साहस को बना ले औजार ।
कर अपने ईरादा अचल,
तुझे उड़ना है आसमा पर ।
उम्मीद रख अपने अंदर,
जरूर होगा धेय पुरा ।
तू लिख अपने नाम,
हर शाम हर सवेरा ।
तुम्हे देख रहा होगा मंज़िल,
न बैठ मान के हार ।
कदम- कदम में है मुश्किल,
तुम्हे रहना होगा तैयार ।

Leave a Reply