उदासी-2

ठिठोली करती
स्मृतियों के मध्य

कहाँ रखूँ
अपनी उदासी का

धारदार हीरा

Leave a Reply