अपनी सलामती

अपनी सलामती

समयसे आगे होने के चककरमें
छूटे तो छूटे ये रिश्तें नातें सब
चाहिए तो बस अपनी सलामती
मुद्दा ठोक दे या झगड़ा मोल लें
ज़िंदा होने का बहाना तो चाहिए
सही-गलत सब बकवास
बस ज़िंदा होने का सबुद चाहिए
जैसा आप सोचते वैसा ही मिलता
गंदी आदमीको गंदी साफ़ दिलको साफ़
बस जीने का वजूद होना चाहिए |

Leave a Reply