माँ तेरी उंगली ढूंढ़ते हैं

लड़खड़ाते मेरे कदम
माँ तेरी उंगली ढूंढ़ते हैं
संभल जब नहीं पाते
तो तुझे ढूंढ़ते हैं

नफरत से भरे इस जहाँ में
न जाने
आज भी हम माँ को क्यों ढूंढते हैं ?

जमाने की ठोकरों की
क्या बिसात ?
मिटा दे जो बजूद मेरा
आज भी हम
माँ की दुआ का असर ढूंढते हैं

है गर ज़माना
शातिरों का रहनुमा
तो क्या ?
आज भी हम माँ में
भगवान का अक्स ढूंढते हैं

है तलाश जिन्हें शानो -शौकत की
खुदा उन पर करम करे
हम तो “बंधू ” सदा
माँ के चरणों में जन्नत ढूंढते हैं

—————-देशबन्धु (टी.जी. टी. आर्ट्स )
हिमाचल शिक्षा बिभाग सर्वाधिकार सुरक्षित