जिंदगी का नजरिया

जिंदगी ने कागजों का हाशिया समझा हमे
और शायद इसलिए हमपे लिखा कुछ भी नहीं

Leave a Reply