अब कोई उसे कहाँ ढूंढे

मेरी पतंग कटी
और
खोती चली गई
अरूणाकाश में…
अब कोई
उसे कहाँ ढूंढे…

Leave a Reply