नव वर्ष

शुभ प्रभात और पूराना साल मूबारक हों क्यूकि

“”तारीखें बदलती है हालात कभी नही बदलते हैं
मंज़ीलो पर हूक़ुमत उन्ही की जो वक्त के साथ चलते हैं
दिन दस्तुर की मोहताज़ नही होती खुंशीयाँ दिल की कयूकिं
पुराने हो जाते है नये साल भी जब पल भर का सफ़र करते हैं””
“”””िवकास””””

Leave a Reply