।। नया वर्ष ।।

।। नया वर्ष ।।

नये वर्ष पर स्नेहो का
हो अविरल प्रवाह
सम्बन्धो में बना रहे वह
अपनेपन की चाह
इस जीवन में
तन मन धन में
आशाओ की नव किशलय हो ।।
न्य वर्ष यह मंगलमय हो ।। 1।।

दुःख की रजनी ठहर न पाये
चाँद करे रखवाली
सुबह सूर्य खुद लेकर आये
खुशियो की इक थाली
मुस्कानों से
रहे उजाला
जीवन ज्योतिर्मय हो ।।
नया वर्ष यह मंगलमय हो ।।2।।

जिन रहो पर पड़े कदम
वे हो सतपथ की राहे
तेरी मंजिल तुम्हे ढूंढकर
स्वंम पास तक आये
पर हृदय की
सभी चाहते
निश्चित हो निर्भय हो ।।
न्य वर्ष यह मंगलमय हो।।3।।

सरस बने ब्यवहार तुम्हारे
मन के सब सन्देह
भर मिले सबकी आँखों में
आरोपित स्नेह
प्यार तुम्हारा
न होवे कम
सबके लिये विजय हो ।।
न्य वर्ष यह मंगलमय हो।। 4।।

ख्याति मिले तुमको जीवन में
बना रहे अभिमान
पूरी हो सारी अभिलाषा
बना रहे सम्मान
समावेश हो
सच्चाई का
कहने का जो भी आशय हो ।।
नया वर्ष यह मंगलमय हो ।। 5।।

अभिलाषाएं तेरे मन की
पूरी हो सुनियोजित
प्रकृति भी आकरके उसको
करे स्वमं संसोधित
आशाओ में
आये दृढ़ता
कहि तनिक भी न शंशय हो ।।
नया वर्ष यह मंगलमय हो ।। 6।।

धूप तुम्हारे लिए शुखद हो
शीतल बने समीर
धन वैभव की वर्षा कर दे
बरसातों का नीर
दुःख की बदली
छट करके सब
शुख के साथ विलय हो ।।
नया वर्ष यह मंगलमय हो ।। 7।।

सदाचार के आदर्शो का
सदा रहे प्रयाश
और तुम्हारे सतकर्मो का
बन जाये इतिहाश
बिना किसी को
व्यथित किये ही
तेरी नेक विजय हो ।।
नया वर्ष यह मंगलमय हो ।। 8।।

जैसे जैसे बढे आज से
यह दिन यह तारीख
उसी तरह से खुशियां बढ़कर
आ जाये नजदीक
मन के तेरे
सुविचार में
न कोई शंशय हो ।।
नया वर्ष यह मंगलमय हो ।। 9।।

नव विचार हो नयी चेतना
नया नया अधिकार मिले
नये वर्ष पर नव निमित सा
प्यार भर संसार मिले
यही प्रार्थना
है ईश्वर से
तेरी सदा विजय हो ।।
नया वर्ष यह मंगलमय हो ।।10।।

*****

One Response

  1. Amod Ojha Amod Ojha 29/12/2014

Leave a Reply