एक हफ्ते की मोहब्बत

एक हफ्ते की मोहब्बत का ये असर था,
जमाने से क्या, मैं खुद से बेखबर था।
शुरू हो गया था फिर, इशारों का काम
महफिल में गूंजता था, उनका ही नाम।
तमन्ना थी बस उनसे, बात करने की
आग शायद थोड़ी सी, उधर भी लगी थी।
वो उनका रह रहकर, बालकनी में आना
नजरे मिलाकर, नजरों को झुकाना।
बेबस था मैं अपनी, बातों को लेकर,
दे दिया दिल उन्हें, अपना समझकर।
सिलसिला कुछ दिनों, यूहीं चलता रहा,
कमरे से बालकनी तक, मैं फिरता रहा।
पूरी हुई मुराद, उनसे बात हो गई,
दिल में कही छोटी सी, आस जग गई।
एक हवा के झोके ने, सब कुछ बदल गया,
अचानक से उनका, यूं रुख बदल गया।
मागें क्या उनको जो तकदीर में नही थी।
कुछ नही ये बस एक हफ्ते की मोहब्बत थी।

-रवि श्रीवास्तव
Email-ravi21dec1987@gmail.com

Leave a Reply