ये दुनिया हमें पागल कहती है!

जब जब तेरी याद आती है,
तबस्सुम से ग़मों को छुपाते हैं !
ये दुनिया हमें पागल कहती है,
युं बेवजह जो हम मुस्कुराते हैं !
क्या कहे क्या बीतती है इस दिल पर,
जब चाहकर भी रो न पाते हैं !
गम-ए-दिल का साथी तन्हाई को बना,
उसे अपने दर्द का किस्सा सुनाते हैं !
ये दुनिया हमें पागल कहती है,
युं बेवजह जो हम मुस्कुराते हैं !!
– श्रेया आनंद
(8th July 2013)

Leave a Reply