आइना है-गजल-शिवचरण दास

टूट जायेगा तो जख्म ही देगा
आईना है संभाल कर रखना .

नाग जहरीले बहुत हैं यादों के
मन का नेवला पाल कर रखना.

दोस्त ही दुशमनी भी करते हैं
बेसबब मत नाराज कर रखना.

तिश्नगी लेके आयेगें मेरे कातिल
जाम एक और ढाल कर रखना.

फूल से भी हसीन नाजुक हैं
सारे बच्चे दुलार कर रखना.

खुद बखुद तितलियां आ जायेगीं
सिर्फ कुछ फूल डाल पर रखना.

दूध की तरह रिश्ते फट जाते हैं
हरदम इनको उबाल कर रखना.

छुप गया सच यदि अन्धेरे में
झूठ को ही उछाल कर रखना.

दास प्यार का अर्थ इतना है
दुखती रगों को दाब कर रखना.

शिवचरण दास

Leave a Reply