बाबू जी

अरुण जी,

यहाँ दो

 के बीच में

इस टैक्स्ट को

मिटा कर

इसकी जगह

अपनी कविता जोड़ें।

Leave a Reply