छोटी-छोटी ख़ुशियाँ

क्यारियों को पानी देते बाबू जी
चूल्हा चौका सँभालती माँ
शर्ट का बटन टाँकती पत्नी
टीचर के लिए लाल गुलाब ले जा रही
नन्ही-सी लड़की
कॉलबेल बजाता पोस्टमैन
कुछ लोग हैं हमारे इर्द-गिर्द
जो करते रहते हैं हमारे लिए
छोटे-छोटे काम
मुँह से बिना कुछ कहे
अपने छोटे-छोटे कामों से
वे लगे हैं हमारे जीवन को सुंदर बनाने में
छोटी-छोटी खुशियाँ बाँटने में
हालाँकि हम भूल चुके हैं
आभार प्रकट करना
न जाने हम क्यों ले लेते हैं उन्हें इतनी सहजता से?

Leave a Reply