किताबे-ज़िन्दगी

बिखरे रहते हैं सब के सब पन्ने
इधर-उधर उड़ते
यहाँ-वहाँ गिरते
बेतरतीब

ऐसा कोई नहीं
जो काग़ज़ों को एक -एक करके उठाता
हरेक वर्क़ सँभालता
और सँवर जाती
ज़िन्दगी की किताब

Leave a Reply