क़ायनात

मेरे भीतर हैं कई द्वीप
कई गुफ़ाएँ हैं अजंता-एलोरा-सी
कई पक्षी हैं जो चहचहा रहे हैं
ख़ूँख़ार जानवर भी हैं

कई हिमखण्ड हैं
कई सागर,कई दरिया,सदानीरा नदियाँ हैं
बहुत-से नदी-नाले भी
एक पोखर भी है छोटा-सा
पहाड़-पर्वत भी हैं
कई जंगल भी हैं घने अँधेरे
जिनमें मैं अक्सर भटक जाया करता हूँ

खण्ड-ब्रह्माण्ड हैं
आसमान हैं,तारे हैं
अनगिनत पृथ्वियाँ,असंख्य चाँद, कई सूरज भी हैं
पूरी क़ायनात है मेरे भीतर

Leave a Reply