समन्दर और मैं

समन्दर किनारे पहुँच
जब मैं इसमें से उठती
लहरों को देखता हूँ
तो इसकी शान्ति को अपने
हृदय में उतार लेना चाहता हूँ
और सीपियों को उठा-उठाकर
सोचता हूँ
अपनी बीती ज़िन्दगी के बारे में
और दिल मेरा हो जाता है
कण-कण
किनारे पर पड़ी रेत की तरह

Leave a Reply