आइने कि तरह गुजरी है जिन्दगी मेरी…..

एक हवा आये और कर दे तेरे हवाले मुझको

इससे पहले की कोइ और बहाले मुझको

आइने कि तरह गुजरी है जिन्दगी मेरी

टूट्ने से डरता हु बिखरने से बचाले मुझको

मुझसे भी तो थी बेपन्हा मोहब्बत तुझको

ना जाने क्यु फिर धोका दे दिया तुने मुझको

गर जानता प्यार मे आयेगी मौत मेरी

तो खुद हि दे देता हाथो मे खन्न्जर तुझको

आ लौट आ दिखा दे अपनी मुस्कुराहट मुझको

वक्त का क्या पता कल न मै मिलु तुझको

सास बाकि है दिल भि धडक रहा है मेरा

हाथ थाम ले इससे पहले कोइ जला दे मुझको

हाथ थाम ले इससे पहले कोइ जला दे मुझको……..