जाने क्यु रुक रहा हु मै….

चलते चलते ना जाने क्यु रुक रहा हु मै

तेरी जुदाई कि यादो से सहम रहा हु मै

लोग बदलते है कैसे मौसम कि तरह

ये देख कर खुद को बदल रहा हु मै

खुद से भी ज्यादा यकीन कर बैठा मै तुझ पे

इस लिये तेरी याद मे तडप रहा हु मै

आन्खो मे आन्सु दिल मे तेरा दर्द लिये

रास्तो पर दर बदर भटक रहा हु मै

होटॉ पर नाम आन्खो मे तस्वीर लिये तेरी

यु मौत से अपने लड रहा हु मै

अब तो आजा आखरी सास है बाकी

वरना तेरी दुनिया से बाहर निकल रहा हु मै

Leave a Reply