दरख़्त

कुछ पल वोह मेरे साथ चले वो रास्ता तो हम मंजिल बन चले
जब बन न था उनको दरख़्त तो वो रास्ते की तरह हमसे मुड़ चले I

Leave a Reply