याराना

जिस मजलिस में हम बैठे थे वहां उनका भी आना हो गया
आँखों से आँखें चार हुयी पर बात करना गवारा न हुआ
जो रहते है इन आँखों में उन्ही से अब ऐसा याराना हो गया I

2 Comments

  1. sujit 09/12/2014
  2. abhi233 10/12/2014

Leave a Reply