स्वास्थ्य रक्षक कविताएं

1 दही मथे माखन मिले, केशर संग मिलाय |
होठों पर लेपित करें, रंग गुलाबी आय ||

2 पीता थोड़ी छँछ जो, भोजन करके रोज |
नही जरूरत वैद्य की, चेहरे पर हो ओज ||

3 अंजवाइन ले छाँछ संग, मत्रा 5 ही ग्राम |
कीट पेट के नष्ट हों, जल्दी पाओ आराम ||

4 छाँछ हींग सेंधा नमक, दूर करै सब रोग |
जीरा उसमें डालकर, पियें सदा यहभोग ||

5 कफ़ से पीड़ित हों अगर, खाँसी बहुत सताय |
अंजवाइन की भाप लें, कफ़ तब बाहर आय ||

Leave a Reply