सालगिरह की शुभकामनाएँ

ईश्वर ने दो अंजानो का
एक ऐसा जोड़ा बनाया
एक प्यार और त्याग की जोड़ी
बनकर वो सामने आया ll

सुख के पलों को भी
एक दूजे के साथ बिताया
दुःख के पलों में भी उसने
एक दूजे का साथ निभाया
विश्वास की सीढ़ी चढ़कर
जीवन का पहिया घुमाया
एक प्यार और त्याग की जोड़ी
बनकर वो सामने आया ll

मन की गहराईओं को भी
समझने में पल न लगाया
अपनों के दूर जाने पर
एक दोस्त का फर्ज निभाया
एक प्यार और त्याग की जोड़ी
बनकर वो सामने आया ll

मुबारक हो तुमको ये सालगिरह तुम्हारी l
सदा खुश रहो ये दुआ है अब हमारी ll

Leave a Reply