रवि और कवि

कवि के पास
रवि पहुँचे
तब पूछा कवि से
जहाँ हम नहीं
वहा तुम कैसे पहुँचे
वायु से भी तेज
हर गली और कूँचे ?
कवि बोला प्रभु
आप हैं ऊपर
मै हूँ निचे
पर ये कम्बक्त “सोंच”
हर जगह पहुँचे
२२-११-२०१४

Leave a Reply