द्वादश राशि परिचय

मेष राशि परिचय

है राशि परिचय मेष का क्षत्रिय पुरुष प्रमान है |
प्रष्ठोदयी पावक सरिस निशिबल चतुस्पद ज्ञान है ||
कालांग शिर पर वास निवसति मेष भूमि प्रमान है |
रज पित्त रक्त सामान ह्रस्व प्ल्वत्व दक्षिण मान है ||

वृष राशि परिचय

धरती रज अरु चतुष्पद रात्रि बली वृष वैश्य |
ह्रस्व सौम्य दक्षिण दिशा परिचय का उद्देश्य ||
परिचय का उद्देश्य वास है शुभ गोशाला |
आग्नेय अवनवन रूप वृष नारीवाला ||
कह प्रकाश वृष वात वास मुख पर है करती |
धरा मातु पितु भ्रात भौम की माता धरती ||

मिथुन राशि परिचय

मिथुन हरित है सूद्र सम पुरुष रात्रि बल जान |
दिशा राशि पश्चिम द्विपद मिथुनाधिप बुध मान ||
मिथुनाधिप बुध मान राशि यह क्रूर कहावै |
उत्तर दिशा प्लवत्व गीत संगीत कहावै ||
शिव कह मिथुन बखान वायु रजस मानौ सुगुन |
शीर्षोदय यह राशि उदय राशि करती मिथुन ||

कर्क राशि परिचय

है कर्क विप्र समान सम बल रात्रि कफ़ नारी मयी |
रुण श्वेत वर्ण प्लवत्व है वायव्य का पृष्ठोदयी ||
जल युद्ध के है निकट निवसति ह्रदय अंग निवास है |
जल तत्व जलचर सौम्य सात्विक राशि उत्तर वास है ||

सिंह राशि परिचय

है सिंह पांडुर वर्ण की शीर्षोदयी दिन की बली |
ठाकुर पुरुष दिशी पूर्व पित्त निवास वन्य तपस्थली ||
कालांग उदर निवास है अवनवन पूरब दिशि सही |
सात्विक चतुष्पद क्रूरता औ दीर्घ पावक युत कही ||

कन्या राशि परिचय

कन्या वर्ण विचित्र है वैश्य जाति रज तत्व |
द्विपद दीर्घ दक्षिण दिशा उत्तर दिशा प्लवत्व ||
उत्तर दिशा प्लवत्व सौम्य दिन बल पहचाना |
प्रथ्वी नारी वात शेष शीर्षोदय माना ||
कटि कालांग निवास कहै शिव धन्य सुकन्या |
पूजित वन्दित शक्ति शक्ति रूपा है कन्या ||

तुला राशि परिचय

तुला पुरुष शीर्शोदयी वस्ति अंग पर वास |
द्विपद कृष्ण सम सूद्र है भूमि दूकान निवास ||
भूमि दूकान निवास दीर्घ दिशि पश्चिम जाना |
आग्नेय अवनवन वायु रज क्रूर समाना ||
शिव कह ज्योतिष ज्ञान वेद नेत्र ज्योतिष खुला |
दिन बल तुला बखान पुरुष राशि सप्तम तुला ||

वृश्चिक राशि परिचय

वृश्चिक कनक समान द्विज कफ़ अंग शिश्न निवास है |
है दीर्घ दिन बल कीट नारी सर्प बिल में वास है ||
उत्तर की दिशा की स्वामिनी है सौम्य तम जलतत्व की |
अंगार स्वामी राशि का है याम्य दिशा प्लवत्व की ||

धनु राशि परिचय

धनु वर्ण पिंगल पित्त क्षत्रिय क्रूर पूरब दिशि कहा |
पृष्ठोदयी सम तत्व पावक रात्रि बल सात्विक महा ||
है पुरुष अंग निवास उरुद्वय अर्ध जलचर द्विपद सी |
रण भूमिवाजि निवास निवसति दीखती है धनुष सी ||

मकर राशि परिचय

परिचय मकर कर्पूर वर्ण समीप जल वन वास है |
पृष्ठोदयी है अर्ध जलचर जानु अंग निवास है ||
दक्षिण दिशा तम सौम्य नारी वात प्रथ्वी तत्व की |
बल रात्रि का सम वैश्य सी दक्षिण दिशा है प्लवत्व की ||

कुम्भ राशि परिचय

है कुम्भ वभ्रुव वर्ण शीर्षोदय बली दिन जानिए |
जलचर पुरुष सम शूद्र तम पश्चिम दिशा को मानिए ||
कालांग जंघा वास है निवसति शिला ग्रह जान लो |
है क्रूर ह्रस्व समीर तत्व प्लवत्व पश्चिम मान लो ||

मीन राशि परिचय

उभयोद्यी हैं मीन नारी सौम्य सम निशिदिन बली |
कफ विप्र स्वच्छ समान जलचर है दिशा उत्तर भली ||
निवसति सदा जल के समीप प्लवत्व है ईशानिका |
कालांग द्वै पद वास है जल तत्व संज्ञा सात्विका ||

आचार्य शिवप्रकाश अवस्थी
9412224548

Leave a Reply