क्या भारत आजाद हुआ है?

फूट रहे हैं बम और गोले, कोई नहीं आबाद यहाँ,
कहने को आजाद है भारत, कोई नहीं आजाद यहाँ,
बहती गंगा को रोक दिया चंद रूपियों के गलियारों में,
छुप बैठे है देश के दुश्मन ऊँची-ऊँची मीनारों में,
सरे आम लुट जाती बेटियाँ, बिक जाती बाज़ारों में,
जहरीले नागों की संख्या हो गई अब हजारों में,
गूँज रही केशर की क्यारी, गूँज उठी है चनारों में,
गूँज गई गुलाबी नगरी, गूँजे बम कछारो में,
सोच-सोच कर फिर से सोचो क्या भारत आबाद हुआ,
अंग्रेज़ तो गए भारत से पर क्या भारत आजाद हुआ है?

One Response

  1. अरुण अग्रवाल अरुण जी अग्रवाल 11/11/2014

Leave a Reply