“हक़ीकत”

,,तेरी शराफ़त ने ही कर िदया
बदनाम तूझे वर्ना ऐ “विकास”
जैसी हैं दूनीयाँ गर वैसा होता तू
तो सब के दिलों पर राज करता,,