अभी नही‌ ताे कभी नही‌

मै साेचता हूँ
देशमे कुछ बदलाव अाया है
जाे अति निसाश था
उस ने भी कुछ पाया है
जाे भुखा था
उसने भी रुखासुखा खाया है
जिसका अााँसु पाेछने वाला काेही नही था
अाँसु पाेचने वाला पाया है
अभी कुछ सुधान अाया है
मित्र तुम कहते थे
हमारा देश
उन्नति नही‌ करेका
अाैर जाेड देके कहते थे
कभी नही‌ कभी नही
अाज मै‌ यह कहता हुँ मित्र
अभी नही ताे कभी नही ।

Leave a Reply