गीत-मैं पराजित नहीं प्यार में प्रियतमे

मैं पराजित नहीं प्यार में प्रियतमे |
बह गया भावना धार में प्रियतमे ||

तू विदूषक कहे याकि शायर कहे |
अश्क बहते थे जो वो तो बहते रहे ||
खो गया हूँ कहाँ ?मैं स्वयं बेखबर |
जाने कितने गजल गीत दिल ने कहे ||
झूठ तेरा प्रिये मैं समझता नहीं |
सच मेरा पीर संसार में प्रियतमे ||

है तपस्या कोई या हठ योग है ?
सच्चिदानंद तू या कोई भोग है ?
कौन योगी मुझे ज्ञान देगा यहाँ ?
प्रेम मीरा मुरारी भी संजोग है ||
प्रार्थना वंदना प्रेम आराधना |
साधना व्यर्थ तकरार में प्रियतमे ||

रतजगे जाने कितने किये रात में ?
बन गया मैं तो शायर तेरी बात में |
रागिनी कह रही तू मेरी कामिनी |
अब नहीं मै प्रिये अपनी औकात में |
तुम निगाहों से खंजर चलाती रहीं |
दिल कटा बीच बाजार में प्रियतमे ||

आचार्य शिवप्रकाश अवस्थी
9412224548

Leave a Reply