सारे शहर में आपसा कोई नहीं

र : सारे शहर में आपसा कोई नहीं, कोई नहीं

आ : सच

र : सारे शहर में …

आ : यही सोचकर रात भर मैं सोई नहीं, सोई नहीं

र : सारे शहर में …
तुमको मेरी वफ़ा पे जाने क्या-क्या ग़ुमाँ हो रहे हैं
कितना भी तुम छुपाओ अफ़साने बयाँ हो रहे हैं
इश्क़ करता हूँ आशिक़ मेरा नाम है

आ : आह आशिक़ ह ह ह ह

र : इश्क़ करता हूँ आशिक़ मेरा नाम है
ऐश करना मेरी जाँ मेरा काम है

आ : ऐसे भी हो तुम वैसे भी हो तुम जैसे भी हो
हमको शिक़ायत आपसे कोई नहीं, कोई नहीं
सारे शहर में …

र : मेरा दिल जिसपे फ़िदा है वो दिलबर वो महबूब हो तुम

आ : थोड़े से तुम हो ज़िद्दी पर आदमी बहुत ख़ूब हो तुम

र : ऐ हसीना बड़ी ख़ूबसूरत हो तुम
मुस्कराती हुई कोई मूरत हो तुम

आ : ऐ जान-ए-जाँ खोए हो कहाँ
कोई तुम्हारी चीज़ तो खोई नहीं, खोई नहीं

र : सारे शहर में …

Leave a Reply