जिंदगी,,,

तेरे बगैर अपनी जिंदगी कुछ यूँ है
जैसे जान के बगैर बेजान इंसान…
जब से तू गई है जिंदगी से मेरी
तब से जिंदगी हो गई है वीरान…

@नीलकमल वैष्णव “अनिश”

Leave a Reply