सनम मेरे सनम, कसम तेरी कसम

अमित:
सनम मेरे सनम, कसम तेरी कसम
मुझे आजकल नीँद आती है कम

अल्का:
सनम मेरे सनम, कसम तेरी कसम
तेरे लिए हुआ, जनम मेरा जनम
महक रहा है तू गुलाब की तरह

अमित:
महक रही है तू शराब की तरह
देख लड़खड़ा गए कदम, मेरे कदम
ये हुस्न ये अदा, ये फूल सा बदन

अल्का:
तू देख दूर से, न चूमो जी सनम
कि आती है मुझे शरम बड़ी शरम
तू अपने प्यार से भिगो दे बस मुझे

अमित:
तू अपने प्यार में डुबो दे बस मुझे
समा है प्यार का, गरम बड़ा गरम

Leave a Reply