याद फिर आई

दिल मेरा बड़ा रो रहा
तुम्हारे इंतज़ार में
देखो में पिघल रहा

समय यह बड़ी तेजी से चल रहा
दिन मेरे कुछ ही पलों के
कुछ ही यादों के सहारे कट रहा

यादें तुम्हारी मुझे आज फिर है आई
संग कुछ लम्हे कुछ पुरानी बातें
साथ अपने यह लायी है

वो पहली मुलाकात हमारी
वो आँखों की धीमी हसी
वो हाथो में हाथ मेरा और तुम्हारा

वो मीठी सी सुहानी मुस्कान
वो पहली बार मेरा नाम तुम्हारे लबो पे
वो इश्क़ का सारा मौसम मुझे याद फिर आया है

वो हवा का मेरे से गुजर तुम्हारे पास पहुंचना
उन हवाओं का कभी मुझे कभी तुम्हे सन्देश देना
वो मेरी जिंदगी का सुनहरा वक़्त मुझे याद फिर आया है

खोए हुआ समय वो
मुझे याद फिर आया है
दिल की गहराई का वो मीठा अहसास
मुझे याद फिर आया है
वो छत पर चंदा की चांदनी में तुम्हे निहारना
पथ पर पथिक बन घूमना साथ
सुबह सूर्य से भी पहले तुम्हे देखना
मुझे याद सब आज फिर आया है

Leave a Reply